लखनऊ,  समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा अपने कार्यकाल में लखनऊ और यहाँ आने वाले यात्रियों के लिए बनवाई गई मेट्रो ट्रेन का उदघाटन करके उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केवल हमारे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश का ही अपमान किया, बल्कि मेट्रो मैन श्रीधरन और उनकी टीम का भी अपमान किया । इतना ही नहीं योगी मंत्रिमंडल के मंत्री फोटो खिचवाने के चक्कर में यह भी भूल गए कि श्रीधरन को कहाँ खड़ा होना है। वे आगे आते गए और मेट्रो में को पीछे धकियाते गए। यह बात यूपी लाइव के संपादक से बातचीत करते हुए युवजन सभा की राष्ट्रीय सचिव प्रीति चौबे ने कही । उन्होने आगे कहा कि एक ऐसा पुरुष या राजनेता जो सनातन धर्म का पुजारी हो, जिसमें लोग बाबा की छवि देखते हैं। वह दूसरे के कार्यों को अपना बता कर उसका खुद उदघाटन करा रहा है। यह उन्हें शोभा नहीं देता है । जबकि यह लखनऊ ही पूरे उत्तर प्रदेश की जनता जानती है कि अपने चुनावी घोषणा पत्र के सभी वायदे पूरे करने के बाद यह मेट्रो उन्होने प्रदेश की जनता को अपनी ओर से उपहार दिया था ।

 

– प्रो. (डॉ.) योगेन्द्र यादव